Bhavishya malika Viral: भविष्य मालिका के सात दिन अंधेरा का रहस्य

TEAM IND TALK
3 Min Read
Bhavishya malika Viral

Bhavishya malika Viral: भविष्य मालिका एक बात ऐसी लिखी गई जिसे समझना हम जैसे साधारण मानव के लिए आसान नहीं रहेगा।भविष्य मालिका में लिखा है कि सात दिन अंधेरा रहेगा पृथ्वी पर आख़िर ऐसा कैसे हो सकता है। इस विषय जाने से पहले आपको भविष्य मालिका के बारे में कुछ बातें बता जो कि काफी महत्वपूर्ण है। अच्युतानंद दास और उनके   पंच सखाओं ने मिलकर इस महान ग्रंथ  रचना की इस ग्रंथ को कई बातें एकदम सत्य हो गई।आज इसी लेकर भविष्य मालिका के रहस्य को समझने प्रयास करेंगे जिसमें स्पष्ट तौर पर लिखा गया है कि पृथ्वी पर सात दिन और अंधेरा रहेगा और ये वक्त कब आएगा? इन सारे सवालों का जवाब इस लेख में देने का प्रयास करेंगे।

Bhavishya malika Viral

भविष्य मालिका सात दिन अंधेरा

भविष्य मालिका के अनुसार जब शनि कुंभ से मीन राशि प्रवेश करेगा उस समय पृथ्वी पर भारी तबाही मचेगी और महाविनाश होगा। इस महाविनाश के बाद एक नया युग आएगा। आपको जानकर हैरानी होगा कि इसी साल 2024 में शनि मीन राशि प्रवेश कर जाएगा। इस साल 30 मार्च वो समय होगा जब शनि मीन राशि प्रवेश कर जाएगा। उसके बाद पृथ्वी पर कई बड़े तबाही होंगें। इस समय अगर आप geopolitical देखें तो दुनिया के ज्यादातर हिस्सा युद्ध लड़ रहा है या फिर बड़े युद्ध का संकट है इस बात से आप समझ सकते हैं कि आगे कैसी तबाही देखने मिल और तीसरा विश्व युद्ध एकदम दहलीज़ पर खड़ा पहुंच चुका है। जो कि किसी भी समय हो सकता है। 

भविष्य मालिका में पंच सखाओं ने  2024 को लेकर क्या भविष्यवाणी की है

सात दिन अंधेरा

सात दिन अंधेरा एक ऐसी बात जिसके पहेली को समझना इतना आसान नहीं है। इस बात को इस रूप में भी आप ले सकते हैं कि जब तीसरा विश्व युद्ध में जब परमाणु हथियार का उपयोग किया जाएगा तब उस समय पृथ्वी पर अंधेरा हो सकता है। इसके अलावा भविष्यवाणी भविष्य होने वाले प्राकृतिक आपदा से भी जोड़ सकते हैं। खैर इस पहेली समझना हम जैसे साधारण मानव के लिए इतना आसान नहीं हो सकता है। आपको क्या लगता है कि भविष्य मालिका के ये बातें भविष्य में सच होगा या फिर नहीं। 

Share This Article
ये लेख इंड टॉक टीम के विभिन्न लेखको द्वारा लिखें गये है इसमें हम स्पष्ट करना चाहते हैं कि सभी लेख पुरी तरह से तथ्यों आधार पर हैं। हमारा उद्देश्य हमारे पाठकों तक सबसे विश्वसनीय खबरें पहुंचाना है।।
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.